Uttarakhand Encyclopedia : उत्तराखण्ड ज्ञानकोष अपना उत्तराखण्ड An Aggregator of Uttarakhandi websites हिसालू-उत्तराखण्ड सन्देश आइये, जाने, समझें और जुडें अपने पहाड़ से, अपने उत्तराखण्ड से मेरा पहाड़ फोरम उत्तराखण्ड की निष्पक्ष खबरों का प्रतिनिधि समाचार पत्र नैनीताल समाचार गैरसैंण दूर नहीं राजधानी से कम मंजूर नहीं

Articles in this series

  • ऋतुओं के स्वागत का त्यौहार- हरेला

32 responses to “ऋतुओं के स्वागत का त्यौहार- हरेला”

  1. bhanudev badu

    बहुत अच्छा, नेपाल मे भी इसी उत्साह के साथ मनाया जाता है सावन संक्रान्तिका यह पर्ब ।सब मित्रों को हरिभरि शुभकामनाये!!!!

  2. सोरयाल

    महाराज, हमारे यहां बाराबीसी में जिमिदारों के यां हरेला नहीं बोया जाता। आमाओं से पूछा तो उन्होंने बताया कि “इजा, हमारे यहां बिरुड़ भिगाते हैं, इसलिये हरेला नहीं बोते।” हमारे यहां गुरुओं (पंडितों) के यहां हरेला बोया जाता है और वे ही घर-घर हरेला पहुंचाते हैं। जिसकी उन्हें दक्षिणा दी जाती है।

  3. ganeshsnigh

    happy harela

  4. ganesh singh

    sare bharat vasiyo ko harela ki hardik subh kamanayon……………………..

  5. prakash

    hello dosto i m mast pahadi person……happy harela to u all

  6. prakash chandra joshi

    dosto me ek pahadi person hu…..muje pahadi tyohar bahut pasand h…..hum apne ghar m in tyoharo ko achhe se manate h…..

  7. पहाड़ी भाई

    इस पारम्परिक त्यौहार की मूल भावना पर्यावरण संरक्षण से जुड़ी है. ऐसे त्यौहार को राष्ट्रीय स्तर पर प्रचारित करके पेड़-पौधे लगाने के प्रति लोगों को जागरूक करना जरूरी है.

  8. hempandey

    ‘यदि हरेले के दिन किसी परिवार में किसी की मृत्यु हो जाये तो जब तक हरेले के दिन उस घर में किसी का जन्म न हो जाये, तब तक हरेला बोया नहीं जाता है। एक छूट भी है कि यदि परिवार में किसी की गाय ने इस दिन बच्चा दे दिया तो भी हरेला बोया जायेगा।’
    -पहाड़ों में यह परम्परा अन्य त्योहारों के लिए भी मान्य है.
    हरेले का त्योहर तो बचपन से ही मनता देखते आ रहे हैं और यहाँ प्रवास में आज भी यथा शक्ति मनाते हैं.लेकिन इस लेख से कुछ ऐसी बातें भी पता चलीं जो अब तक ज्ञात नहीं थीं.

  9. Jagdish Bhatt

    Mujhe uttrakhandi hone ka garv hai, yahan ki riti revaj tyoahar mujhe pasand hai.

  10. ghughutibasuti

    हरेला पर यह लेख अच्छा लगा। एक अनुरोध है। क्या ऐसा नहीं हो सकता कि पूरे वर्ष के अपने त्यौहार व हरेला जैसे त्यौहारों से सम्बद्ध हरेला बोने के दिन का पूरा पंचांग सा बनाकर उत्तराखंड सम्बन्धित ब्लॉग्स में लगा दिया जाए। यदि ऐसा किया जाए तो पहाड़ से दूर रहने वालों का कोई त्यौहार छूटेगा नहीं।
    घुघूती बासूती

  11. घी-त्यार : उत्तराखण्ड का एक लोक उत्सव

    […] त्यौहार भी हरेले की ही तरह ऋतु आधारित त्यौहार है, हरेला […]

  12. पशुधन की कुशलता की कामना का पर्व “खतडुवा”

    […] और बीजों से सम्बन्धित त्यौहार "हरेला" है, पिथौरागढ में मनाया जाने वाला […]

  13. madan bisht

    हरेला त्योहार का सिर्फ हमे ही नही बल्कि
    हर उत्तराखण्ड की नारी को इन्तजार रहता है
    हरेली त्यौहार आलौ त आपण मैत जूल कनै तो सब यो त्यौहार क भली भाति मनाया
    मै त घर बै भौत दुर छु पर मेरी इच्छा घर आहै भौते कररै
    कलैकी हरयावै दिन मेरी दीदी आली मेरी बैणी आली
    तो कतु भौल लागल घर मै

    सबुकै हरयावै त्यौहारेकी
    बधाँईया

  14. Deepak Singh Dobal

    sabhi pahadi bhaiyo ko harela utsav mubark ho kayo ki ye ek esa utsav he jo hame ye batata he ki rituwe aa gayi he inka welcome karo or sabhi me payar ka sandesh bato or ek dusre se payar karo,

  15. हरेले की चिट्ठी बागेश्वर से …..

    […] फोटो: मेरा पहाड़ संबंधित लेख….अनशन की सीमायेंइंदिरा राही भारत में पुरातन काल से ही उपवास की एक धार्मिक परम्परा रही है। मुस्लिम समुदाय में भी…सम्पादकीय : जनता बेवकूफ ना बने तो क्या करे….स्वामी रामदेव के बच जाने और स्वामी निगमानन्द के शहीद हो जाने के बाद देश और प्रदेश की राजनीति का कुरू…बहुतु कठिन है डगर पनघट की…वह एक अजीब दृश्य था। चैनल उसे सनसनीखेज बनाना चाहते थे और वह लगातार हास्यास्पद होता चला जा रहा था। एं…चिट्ठ्ठी पत्री :भ्रष्टाचार,नगर निगम और ब्रज मोहन शर्मा1-14 जून के अंक में भुवन बिष्ट का आलेख ‘भ्रष्टाचार से तरक्की का रास्ता है हजारे जी’ वर्तमान व्यवस्था…भ्रष्टाचार तो तरक्की का रास्ता है हजारे जी !‘पूरे देश का कहना है अन्ना हजारे गहना है।’ ‘जब तक सूरज चांद रहेगा अन्ना तेरी बात कहेगा’, ‘अन्ना नहीं… […]

  16. rajiv joshi

    achha shodh aadhaarit lekh lagta he.

  17. ASHOK CHAUHAN

    sach me yaar apne pahaadi elaake jesha koi nahi i really love my uttrakhand

  18. Girish Pathak vill--(Karala) Dharmghar

    Thanks sir apne aacha lake likha hai hame garve hua ke hamare tyohare ko aapne sarvjanik kiya hai ham aapke aabhari hai

  19. Shiv Singh Rawat

    हम टेहरी गढ़वाल से हैं वहां पर चैत माह के नवरात्रों तथा आश्विन के नवरात्रों में हरियाली बोई जाती है इसे देवी माँ की पूजा के रूप में बोया जाता है। हरेला के बारे में विस्तार से जानकर अति प्रशन्नता हुई।

  20. brijpal singh

    जानकारी अच्छी लगी, लेखक को आभार

  21. PIYUSH PANT

    harela parv ki sabhi uttarakhand k bhai bahen ko badhai

  22. vicky gariya

    i am vicky garia from bageshwar live chandigarh
    i like love harela festival i missing my childhood days uk i love uk

  23. kedar singh

    bahut achi jaankari mili or kafi acha lagta hai jb kuch hme nya content milta hai aapne uttrakhand ke baare or sabse achi bat yaha hai ki jo jaager hm roj ghr me dekhte the aaj us
    ke baare me bhi padh liya or samjh bhi liya

  24. Hem chandra pandey

    Kisi ne theek kaha ke yadi pure verse ka panchang kumaoni tuoharoi ke anusar ban jaye to perdesh mei rahane waloi ko suvidha ho jay.

  25. pushplatabhatt

    हरेला पर्व कुमाऊँनी संस्कृति का प्राण है।हमारे पिताजी डा० नारायणदत्त पालीवाल जी जब तक जीवित रहे,उन्होंने हमें इस पर्व से जोड़े रखा। यदि हमें हरेला की सही तिथि पता रहे तो हम भी इस परम्परा को आगे बढ़ा सकते हैं।सभी को हरेला पर्व मुबारक।

    ,

  26. Deepak Singh Bisht

    Maine bhee bahut achhi trah se manaaya hai es tyohar ko par ab bahut jyaada miss karta hun

  27. veena thapli

    आप सभी को हरेला पर्व की हार्दिक शुभकामनायें।
    And special thank म्यार पहाड़ team,
    they give us a very beautiful, and useful information about this festival…

  28. nick

    Nice bahut badiy yaaro

  29. nick

    Nice

  30. Green Cross Society

    Happy Harela Festival to all

  31. LALIT SINGH TARAGI

    A greatfull thanks from bottom of my heart for above information

  32. C.M.KHUGSHAL

    हरेला पर्व सम्बन्धी जानकारी बहुत अच्छी लगी।लेखक को साधुवाद।

Leave a Reply