Uttarakhand Encyclopedia : उत्तराखण्ड ज्ञानकोष अपना उत्तराखण्ड An Aggregator of Uttarakhandi websites हिसालू-उत्तराखण्ड सन्देश उत्तराखण्ड के ब्लागरों के लिये मेरा पहाड़ की पहल मेरा पहाड़ ब्लाग सेवा आइये, जाने, समझें और जुडें अपने पहाड़ से, अपने उत्तराखण्ड से मेरा पहाड़ फोरम उत्तराखण्ड की निष्पक्ष खबरों का प्रतिनिधि समाचार पत्र नैनीताल समाचार उत्तराखण्ड की कहानी देवेन्द्र मेवाड़ी जी की जुबानी मेरी कलम उत्तराखण्ड की बेबाक आवाज शैल स्वर गैरसैंण दूर नहीं राजधानी से कम मंजूर नहीं

3 responses to “लिपि कला नहीं विज्ञान है- एक आविष्कार है”

  1. कुमाऊनी-गढ़वाली को मिले उत्तराखण्ड की ’द्वितीय भाषा’ का दर्जा

    [...] [...]

  2. ASHOK BHATT

    Mera Phad,
    Namaskar,
    Bahut hi chintaniy our aashcharya ki bat hai ki NAPALI hamare DESH ki BHASHA hai our AATHVI ANUSUCHI me SHAMIL hai per hamari matra bhasha KUMAUNI, GADHWALI, JONSHARI nahi jabki inki LIPI DEVONAGRI hai…………………………..

  3. suneil

    Jaunsari does have unique scipt used by thier people, which has stark similarity to ‘Kosher’…. and Bhatakshri which is used in Himachal and J&K…(though these are not so popular)…its lost in time

Leave a Reply